In Stock
Shrimad Bhagvadgita

Gita-Ramanuja-Bhashya (Hindi)

  • AuthorGita Press Gorakhpur
  • SKU581
  • Language Note: Hindi
  • Time Status: 2000s -- 21st century
₹ 100.00

Shipping charges will be applied on the basis of your cart value.

गीता-रामानुजभाष्य  पुस्तकाकार—यह श्रीसम्प्रदाय-प्रवर्तक जगद्गुरु श्रीरामानुजाचार्यद्वारा की गयी विशिष्टाद्वैत सिद्धान्तकी पुष्टिमें गीताकी अद्भुत व्याख्या है, जिसका अनुकरण भक्ति-पक्षके लगभग सभी आचार्योंद्वारा किया गया है। आचार्यश्रीके इस भाष्यमें प्रचलित अद्वैतवादका श्रुति-स्मृतियोंके प्रमाणसहित सुन्दर युक्तियोंद्वारा खण्डन, भगवद्-आराधनापूर्वक कर्मकी आवश्यकतापर बल, आत्मबोधहेतु सतत प्रयास इत्यादि विषयोंपर विशद विवेचन है। पुस्तकाकार—यह श्रीसम्प्रदाय-प्रवर्तक जगद्गुरु श्रीरामानुजाचार्यद्वारा की गयी विशिष्टाद्वैत सिद्धान्तकी पुष्टिमें गीताकी अद्भुत व्याख्या है, जिसका अनुकरण भक्ति-पक्षके लगभग सभी आचार्योंद्वारा किया गया है। आचार्यश्रीके इस भाष्यमें प्रचलित अद्वैतवादका श्रुति-स्मृतियोंके प्रमाणसहित सुन्दर युक्तियोंद्वारा खण्डन, भगवद्-आराधनापूर्वक कर्मकी आवश्यकतापर बल, आत्मबोधहेतु सतत प्रयास इत्यादि विषयोंपर विशद विवेचन है।

  • Language Note: Hindi
  • Time Status: 2000s -- 21st century